त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाये जाने की मांग

त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाये जाने की मांग

गोपेश्वर (चमोली)। त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाये जाने की मांग को लेकर सोमवार को उत्तराखंड त्रिस्तरीय पंचायत संगठन की ओर से एक ज्ञापन जिलाधिकारी चमोली के माध्यम से प्रधानमंत्री और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को भेजा है।

त्रिस्तरीय पंचायत संगठन के लक्ष्मण सिंह नेगी और विक्रम सिंह बत्र्वाल का कहना है कि जिस तरह से एक देश एक चुनाव की बात की जा रही है। जिसका मसौदा भी तैयार कर पूर्व राष्ट्रपति की अध्यक्षता में तैयार कर भारत सरकार को सौंपा गया है। जिसका उनका संगठन स्वागत करता है। इसी तरह एक प्रदेश एक पंचायत चुनाव को लेकर भी पंचायत संगठन मांग करता आ रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के हरिद्वार को छोड कर अन्य जिलों में पंचायत चुनाव होने है। पंचायत प्रतिनिधियों के इस पांच वर्ष के कार्यकाल में दो वर्ष कोविड के कारण कार्य न होने से गांवों के विकास को गति नहीं मिली है। उनका संगठन चाहता है कि पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाते हुए हरिद्वार जनपद के साथ ही प्रदेश के अन्य जिलों में भी पंचायत चुनाव संपन्न करवाये जाएं।

उनका यह भी कहना था कि एक जुलाई को पूरे प्रदेश में इसको लेकर धरना दिया जा रहा है लेकिन बदरीनाथ विधान सभा में आचार संहिता लगी होने के कारण धरना नहीं दिया जा रहा है। ज्ञापन देकर ही आंदोलन को अपना समर्थन दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि ज्ञापन के माध्यम से मुख्यमंत्री से मांग की है कि एक सप्ताह के भीतर पंचायत संगठन के प्रतिनिधियों से मुख्यमंत्री वार्ता कर उनकी समस्या का समाधान करें। यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो प्रदेशव्यापी आंदोलन किया जाएगा।