उज्ज्वला सामाजिक संस्था ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर कराया योगाभ्यास, अध्यक्ष रश्मि सिंह ने कहा – योग को अपनी दिनचर्या में करें शामिल

उज्ज्वला सामाजिक संस्था ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर कराया योगाभ्यास, अध्यक्ष रश्मि सिंह ने कहा – योग को अपनी दिनचर्या में करें शामिल

कोटद्वार :  : उज्ज्वला सामाजिक संस्था ने हर्षोल्लास एवं धूमधाम के साथ मनाया 10वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस । उज्ज्वला सामाजिक संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभागियों ने पूरे उत्साह के साथ योगाभ्यास में हिस्सा लिया और इसे अपने दैनिक जीवन में अपनाने का संकल्प लिया। उज्ज्वला सामाजिक संस्था ने विश्व योग दिवस के अवसर पर उपस्थित महिलाओं व लडकियों को सैनेटरी पैड वितरित किये । आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित सभी प्रतिभागियों को सर्टिफिकेट भी दिए गये ।

उज्ज्वला सामाजिक संस्था की अध्यक्ष रश्मि सिंह ने कहा कि योग व्यक्ति के शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। जिससे व्यक्ति स्वस्थ शरीर के साथ ही ऊर्जा प्राप्त करता है। जिससे व्यक्ति की कार्य क्षमता में वृद्धि होती है। कहा कि योग हमारे स्वस्थ शरीर एवं प्रसन्न मन के लिए जरूरी है तथा सभी को योगाभ्यास करना जरूरी है। योग से ही हमारा शरीर स्वस्थ्य रहेगा, इसके लिए योग करना जरूरी है। योग दिवस की शुभकामनाएं एवं बधाई देते हुए कहा कि इसका शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 21 जून, 2014 से प्रारंभ किया गया, जिसमें 193 देशों में भी योगाभ्यास कार्यक्रम किए गए थे। जिसमें विश्व पटल में योगा ने अपनी पहचान बनाई।

उज्ज्वला सामाजिक संस्था की अध्यक्ष रश्मि सिंह ने कहा कि योग केवल व्यायाम नहीं है, वह हर परिस्थिति में आपको कुशलता से कार्य करना सिखाता है। योग से ही तनावपूर्ण परिस्थितियों के रहते हुए भी आपकी मुस्कान बनाए रखना योग का उद्देश्य है। आप दुखी हैं, तो यह आपको दुख से बाहर ले जाता है। आप बहुत बेचैन हैं, तो योग आपके अंदर धैर्य लाता है। यह आप में कार्यकुशलता लाता है। रश्मि सिंह ने बताया कि योग में सभी के लिए कुछ न कुछ है, जैसे फिजिकल प्रैक्टिस से दिमाग और सांस लेने वाले व्यायाम से भक्ति भी हो सकती है। इसी के साथ योग अन्य फिजिकल और मानसिक फायदे भी पहुंचाता है, जिससे लचीलेपन में सुधार, स्ट्रेंथ, स्टेमिना, बेहतर इम्यूनिटी, शांति, स्ट्रेस को दूर करना, फोकस को बढ़ाना आदि शामिल है।

उज्ज्वला सामाजिक संस्था की और से आयोजित योग शिविर में अनिता, शारुल, कनिष्का, इंद्रकुमार, राजेन्द्र एवं लता सहित आदि लोग उपस्थित रहे।