उत्तराखंड में अगले 05 दिन ऐसा रहेगा मौसम, इन जिलों में होगी भारी बारिश, रेड अलर्ट जारी!

उत्तराखंड में अगले 05 दिन ऐसा रहेगा मौसम, इन जिलों में होगी भारी बारिश, रेड अलर्ट जारी!

देहरादून : मौसम विभाग ने आज से सात जुलाई तक का मौसम पूर्वानुमान जारी किया है। मौसम विभाग के अलर्ट के अनुसार प्रदेशभर में भारी बारिया का दौर जारी रहेगा। इस दौरानों को भारी दिक्कतों का सामना भी करना पड़ सकता है। पहली बारिश में ही प्रदेशभर में कई सड़कें और संपर्क मार्ग बंद हो गए हैं। गंगोत्री, यमुनोत्री और बद्रीनाथ मार्ग लगातार रुक-रुक कर बंद हो रहे हैं, जिसके चलते यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

मौसम का ये है ताजा अपडेट

मौसम विभाग के अनुसार उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग के लिए पांच दिनों तक येलो अलर्ट जारी किया गया है। टिहरी, देहरादून और पौड़ी जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। लोगों को इस दौरान सतर्क रहने के लिए भी कहा गया है। साथ ही पहाड़ी क्षेत्रों में सफर करने वालों के लिए जरूरी सावधानी बरतने के लिए भी कहा गया है।

अगले पांच दिन ऐसा रहेगा मौसम
मौसम

वहीं, पिथौरागढ़, मल्मोड़ा, चम्पावत, नैनीताल, ऊधमसिंह नगर जिलों के रेड अलर्ट जारी किया गया है। इन जिलों में आज सुबह से भी भारी बारिश का सिलसिला जारी है। हल्द्वानी में भारी बारिश के चलते सड़कें जलमग्न नजर आई। इसके चलते लोगों को परेशानियों को सामना करना पड़ रहा है।

ये बना रहेगा खतरा

  • मौसम विभाग का कहना है कि इस दौरान संवेदनशील इलाकों में कहीं-कहीं हल्के से मध्यम भूस्खलन और चट्टान गिरने के कारण सड़कों/राजमार्गों में अवरोध/कटाव हो सकता है।
  • कहीं-कहीं चट्टान/भू-स्खलन और बाढ़ के कारण सड़कों/राजमार्गों/पुलों का अवरु‌द्ध या बह जाना।
  • सामुदायिक सेवाएं जैसे बिजली, पानी आदि कहीं-कहीं पर प्रभावित रहेंगे।
  • कुछ दिनों के लिए कहीं-कहीं पर आपूर्ति और परिवहन प्रभावित रहेगा।
  • कहीं-कहीं बिजली गिरने से जान-माल की हानि भी हो सकती है।
  • लगातार भारी वर्षा के कारण बांधों/बैराजों से निस्सरण बढ़ सकता है, जिससे नदी जल स्तर में वृ‌द्धि हो सकती है।
  • प्रमुख नदियों और उनकी सहायक नदियों के जल स्तर में मध्यम वृद्धि।
  • बाढ़ का खतरा बना रहेगा।

मौसम विभाग की सलाह

  • भूस्खलन की आशंका वाले संवेदनशील क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को सतर्क रहने की आवश्यकता है।
  • राज्य में चारधाम या अन्य स्थानों की यात्रा करने वाले तीर्थयात्री/पर्यटक सतर्क रहें और यात्रा करते समय खड़ी ढलानों पर नजर रखें।
  • नदी/नालों के निचले इलाकों के समीप रहने वाले लोगों तथा बस्तियों को सावधान रहने की जरूरत है।
  • राज्य सरकार के अधिकारियों को लोगों की सुरक्षा की दृष्टि से आवश्यक कार्रवाही करने की सलाह दी जाती है।
  • अपडेट के लिए मीडिया रिपोर्टों की निगरानी करें। स्थानीय मीडिया/सोशल मीडिया पर मौसम के पूर्वानुमान के लिए चेक करते रहें।
  • लोगों को सलाह दी जाती है कि वे गर्जन/आकाशीय बिजली के समय सुरक्षित स्थानों/पक्के मकानों में शरण लें। पेड़ों के नीचे शरण ना लें और अपने वाहन सुरक्षित स्थानों पर पार्क करें।
  • सफर के दौरान सावधानी बरतें। पर्वतारोही फिलहाल पहाड़ों पर ना जाएं।