UKSSSC Paper Leak Case देहरादून: उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UKSSSC) भर्ती परीक्षा के पेपर लीक मामले में धामी सरकार का ताबड़तोड़ एक्शन जारी है। भ्रष्टाचार पर कड़े प्रहार का संदेश देने के लिए सरकार मामले में अब सीबीआइ जांच की संस्तुति कर सकती है। बताया जा रहा है कि, मुख्यमंत्री स्वयं इस संबंध में शासन, पुलिस और एसटीएफ के अधिकारियों से लगातार फीडबैक ले रहे हैं।

उच्च अधिकारियों के साथ मंथन कर चुके सीएम धामी!

सरकार नहीं चाहती कि, इस प्रकरण से उसकी छवि पर आंच आए। ऐसे में इस प्रकरण पर सरकार महत्वपूर्ण कदम उठाने जा रही है। बताया गया कि, इस प्रकरण की विस्तृत जांच के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी उच्च अधिकारियों के साथ मंथन भी कर चुके हैं। इस प्रकरण की जांच सीबीआइ अथवा हाईकोर्ट के सिटिंग जज से कराने पर भी चर्चा हुई है। यह जांच कौन करेगा, इस पर मुख्यमंत्री जल्द फैसला लेंगे।

हालांकि, जिस तरह से अब तक इस मामले में सरकार का रुख रहा है, उससे अधिक संभावना इसी बात की है कि, मुख्यमंत्री सीबीआइ जांच की संस्तुति कर सकते हैं। ऐसा कर वह भ्रष्टाचार पर प्रहार पर सरकार के संकल्प को पूरा करने का संदेश भी देना चाहते हैं।

UKSSSC Paper Leak Case में अब तक 31 गिरफ्तारियां

गौरतलब है कि, उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा आयोजित स्नातक स्तरीय भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामला सामने आने के बाद से ही मुख्यमंत्री धामी इस पर सख्त रुख अपनाए हुए हैं। उन्होंने शुरुआत में ही इसकी जांच एसटीएफ से कराने का निर्णय लिया। एसटीएफ अब तक इसमें 31 गिरफ्तारियां कर चुकी है।

दोषियों की अवैध संपत्ति को ज़ब्त करने और गैंगस्टर एक्ट व पीएमएलए में कार्रवाई के निर्देश

सीएम धामी लगातार कह रहे हैं कि, इस प्रकरण में शामिल किसी भी व्यक्ति को छोड़ा नहीं जाएगा, चाहे आरोपित कितना बड़ा व्यक्ति क्यों न हो। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक में दोषियों को चिन्हित कर उनकी गिरफ्तारी, अवैध संपत्ति को ज़ब्त करने और गैंगस्टर एक्ट व पीएमएलए में कार्रवाई करने के भी निर्देश दे चुके हैं। साथ ही यह भी कह चुके हैं कि, जरूरत पड़ने पर जांच का दायरा भी बढ़ाया जा सकता है और राज्य की जांच एजेंसी के अलावा भी सभी जांच के विकल्प खुले हुए हैं।

 

By Skgnews