रुद्रप्रयाग: रुद्रप्रयाग जिले में ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे पर सिरोबगड़ लगातार परेशानी का सबब बना हुआ है। यहां लगातार पहाड़ी से मलबा गिर रहा है। एनएच द्वारा काफी प्रयासों के बाद कुछ समय के लिए वाहनों की आवाजाही सुचारू की जाती है तो फिर बार बार पहाड़ी से निरन्तर मलबा और पत्थर सड़क पर आ जा रहे हैं। वहीं 12 घंटे मार्ग बाधित रहने के बाद एक बार फिर से रुद्रप्रयाग मे सिरोबगड़ के पास बाधित NH यातायात हेतु खुल गया है।

 

इससे पहले बीते कल मार्ग सुचारू होने के बाद फिर से शाम तक मार्ग अवरूद्ध हो गया। जिसके बाद NH को दोनों छोर से खोलने का निरन्तर प्रयास किया गया। परन्तु लगातार पहाड़ी से मलबा गिरने के कारण 12 घंटे फिर से मार्ग बाधित रहा। हालांकि सिरोबगड़ में बाधित NH यातायात फिलहाल खुल गया है। सुरक्षा के दृष्टिगत यहां पर पर्याप्त पुलिस बल तैनात है और मार्ग बाधित होने पर वाहनों को वैकल्पिक मार्गों से भेजा जा रहा है।

हालांकि सिरोबगड़ में मार्ग खुलने के बाद भी पहाड़ी से लगातार बोल्डर गिरने से यहां से वाहनों को जोखिम उठाकर गुजरना पड़ रहा है।बताया जाता है कि चूना पत्थर से बनी यह पहाड़ी काफी कमजोर है और जरा-सी वर्षा में भी दरकने लगती है। सिरोबगड़ भूस्खलन जोन बीते लगभग 50 वर्षों से रुद्रप्रयाग व चमोली जिले की सात लाख से अधिक की आबादी के लिए मुसीबत बना हुआ है। इस समस्या को देखते हुए वर्ष 2019 में 700 करोड़ की लागत से सिरोबगड़ बाईपास का निर्माण शुरू किया गया था, जिसे वर्ष 2023 तक बनकर तैयार होना है। लेकिन, तब तक वाहनों को जोखिमभरा सफर ही करना पड़ेगा।

By Skgnews