पिथौरागढ़: उत्तराखंड के सीमांत जिले पिथौरागढ़ में भारी बारिश ने जमकर तबाही मचाई है। बादल फटने के दौरान काली नदी में भारी मात्रा में बलमा आने से झील बन गई है। इससे धारचूला में काली नदी का प्रवाह बीती रात को कुछ देर के लिए रुक गया था। नेपाल की ओर स्लाइड होकर नदी में मलबा पहुंच जाने के बाद खतरा बढ़ गया है। तटबंध के ऊपर नदी बहने लगी है, इससे लोग सहमे हुए हैं।

धारचूला बाजार में दुकानों को भारी नुकसान हुआ है। पहाड़ी से बरसाती पानी के साथ आया मलबा कई घरों में घुस गया है। बाजार की सड़क भी मलबे से पट गई है और सड़क में पार्क किए गए वाहन भी मलबे में दब गए हैं। मल्ली बाजार, ग्वाल गांव और खोतीला में सड़कों पर मलबा जमा हो गया है। खोतिला व्यासनगर के पास काली नदी में लगभग दो किमी लंबी झील बनने से व्यासनगर के 50 से अधिक मकान जलमग्न हो गए। वहीं बादल फटने से नेपाल में मकानों के ध्वस्त होने और कई लोगों के लापता होने की सूचना है।

इससे खोतीला में 37 घरों में मलबा घुसने से लाखों का नुकसान हुआ है। एक महिला की घर के मलबे में दबकर मौत हो गई है। सूचना मिलते ही आपदा प्रबंधन, राजस्व दल, एसडीआरएफ, पुलिस राहत कार्य मे जुटे है। हैलीकॉप्टर से राहत सामग्री खोतिला पहुचाई जा रही है। प्रभावितों को सुरक्षित स्थानों पर पहुचाया जा रहा है।

By Skgnews