चमोली : सीमावर्ती क्षेत्र में पहाड़ी से चट्टान टूटने के कारण दो दर्जन से अधिक बकरियों की मौत

चमोली : सीमावर्ती क्षेत्र में पहाड़ी से चट्टान टूटने के कारण दो दर्जन से अधिक बकरियों की मौत

गोपेश्वर (चमोली)। चमोली जिले के सीमावर्ती क्षेत्र में हो रही भारी वर्षा के कारण सोमवार को नीती घाटी के सुराईथोटा से दो किलोमीटर आगे ग्वाड गांव के पास पहाड़ी से भारी बोल्डर आने के कारण पहाड़ी पर चुगान कर रही दो दर्जन से अधिक बकरियों की मौत हो गई है जबकि कई बकरियां घायल हो गई है।

सुखी भलगांव के प्रधान लक्ष्मण सिंह बुटोला ने बताया कि रविवार से क्षेत्र में भारी वर्षा हो रही है। सोमवार को स्थानीय लोगों की बकरियां ग्वाड गांव के पास चुगान के लिए ले जायी गई थी कि अचानक पहाड़ी से भारी चट्टान टूटने के कारण इसकी चपेट में बकरियां आ गई जिस कारण दो दर्जन से अधिक बकरियों की मौके पर मौत हो गई है जबकि कई बकरियां घायल हो गई है। जिसकी सूचना तहसील प्रशासन और पशुपालन विभाग को दी गई। जिसके बाद तहसील प्रशासन और पशु पालन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर पशुहानि का आंकलन करना शुरू कर दिया है।

गौरतलब है कि ग्रीष्मकाल में इस क्षेत्र में भोटिया जनजाति के लोग प्रवास के लिए अपने मवेशियों के साथ जाते है। इन दिनों यहां के भेड पालक जंगलों में ही अपने भेड बकरियों को चराते है।

इधर आपदा प्रबंधन अधिकारी एनके जोशी ने बताया कि नीती घाटी क्षेत्र में चट्टान टूटने की खबर मिली है। जिसमें बकरियों की मौत होने की जानकारी मिली है। अभी अधिक जानकारी ली जा रही है।