चमोली: उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में लगातार बारिश से भूस्खलन का सिलसिला जारी है। आज गुरुवार दोपहर करीब 4 बजे ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे पर कर्णप्रयाग के पास पंचपुलिया में पहाड़ी से चट्टान का बड़ा हिस्सा टूटकर सड़क पर गिर गया। गनीमत रही कि उस दौरान वहां कोई यात्री नहीं था। इससे हाईवे पर दोनों ओर लंबा जाम लग गया। हाईवे बंद होने से स्थानीय लोगों सहित बदरीनाथ और हेमकुंड जाने वाले करीब 500 तीर्थयात्री जाम में फंस गए। मशीनों की मदद से हाईवे से चट्टान को हटाने का काम शुरू कर दिया है।

वहीं चमोली पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि, रोड खोलने का कार्य प्रगति पर है, रोड खुलने की संभावना अर्ध रात्रि या कल सुबह तक है। जिसमें आने जाने वाले यात्रीगण फंसे हुए थे, जिन्हें पुलिस द्वारा लाउडहेलर सुरक्षित स्थानों पर, होटल रेन बसेरा आदि में जाने हेतु अनाउंसमेंट किया गया। एसडीएम कर्णप्रयाग, संतोष कुमार पांडे ने बताया कि अगर मौसम साफ रहा तो देर रात तक हाईवे खुलने की संभावना है।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि, इस दौरान वहां से एक ट्रक गुजर रहा था, लेकिन जैसे ही चट्टान का एक छोटा टुकड़ा ट्रक के आगे गिरा तो उसने अपने वाहन को पीछे कर दिया। इसी दौरान पलक झपकते में पहाड़ी दरक गई और हादसा होने से बच गया। वहीं गौचर की तरफ से एक गर्भवती महिला को कर्णप्रयाग अस्पताल लाया जा रहा था, पुलिस और हाईवे पर फंसे लोगों की मदद से महिला को दूसरे किनारे पर लाया गया और फिर खुशियों की सवारी से अस्पताल पहुंचाया गया।

बदरीनाथ हाईवे पर कर्णप्रयाग से गौचर की तरफ करीब 900 मीटर क्षेत्र में पंचपुलिया की चट्टान नासूर बनी है। पिछले दो महीनों के अंदर इस क्षेत्र में 15 से अधिक बार चट्टान खिसकने से हाईवे बंद हुआ है। आज दोपहर भी जलेश्वर महादेव मंदिर के ठीक सामने लगभग 10 मीटर भाग में पहाड़ी से चट्टान का एक बड़ा भाग टूटकर हाईवे पर गिरा।

By Skgnews