देहरादून: उत्तराखंड शिक्षा विभाग ने ग्रीष्मकालीन अवकाश को लेकर स्थिति साफ कर दी है. इसको लेकर शिक्षा महानिदेशक बंशीधर तिवारी नेआदेश जारी कर दिया है. जिसके तहत ग्रीष्म कालीन अवकाश 01 जून से 05 जुलाई तक रहेगा. इससे पहले ग्रीष्मकालीन अवकाश को एक सप्ताह आगे बढ़ाने को लेकर शिक्षक विरोध कर रहे थे. इसके बाद मई महीने में जो अवकाश समायोजित किए गए हैं, उनके बदले की शिक्षकों को छुट्टी जुलाई में दी गई है.

इससे पहले माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने बताया कि, 27 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश तय है, लेकिन शैक्षिक कार्य पूरा न होने और 28 मई रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की मन की बात कार्यक्रम के चलते ग्रीष्मकालीन अवकाश को कुछ आगे बढ़ाया जा रहा है. कई स्कूलों ने मासिक परीक्षा के प्राप्तांक शिक्षा विभाग के पोर्टल पर चढ़ाने होंगे. इस प्रकार के कार्यों को देखते हुए विभाग ने ग्रीष्मकालीन अवकाश एक सप्ताह आगे कर दिया है. उन्होंने कहा कि, शिक्षकों को नाराज होने की जरूरत नहीं है. विभाग ग्रीष्मकालीन अवकाश को समायोजित कर रहा है. शिक्षकों को काम के प्रति भी समर्पित रहने की जरूरत है.

अब जारी आदेश के अनुसार, 1 जून से ग्रीष्म कालीन अवकाश होने के चलते 31 मई तक स्कूल सुचारू रूप से चलेंगे. 31 मई को अंतरराष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस पर कक्षा 6 से 12 तक के छात्रों और शिक्षकों को तंबाकू निषेध संबंधी शपथ ली जानी है. वही 1 जुलाई को स्कूल खुलने की बजाय 6 जुलाई से खुलेंगे.

By Skgnews