Ankita Murder Case Uttarakhand: अंकिता भंडारी का शव करीब एक हफ्ते बाद चीला पावर हाउस बैराज से बरामद कर लिया गया है। जिसकी पहचान अंकिता के पिता और भाई ने शव की पहचान कर ली है। वहीं अपनी बेटी को इस हाल में देख पिता टूट गए हैं। 18 सितंबर की रात नहर में धक्का देकर अंकिता की हत्‍या कर दी गई थी। तीनों आरोपित पुलिस की गिरफ्त में हैं। वहीं पूर्व राज्यमंत्री के आरोपित बेटे के रिजॉर्ट पर देर रात बुलडोजर भेजकर उसे गिराने करने की कार्रवाई की गई। मामले में पौड़ी के डीएम ने लापरवाही बरतने पर पटवारी विवेक कुमार को निलंबित कर दिया है। सीएम धामी ने दोषियों को कड़ी सजा दिलाने के लिए SIT जांच के भी आदेश दे दिए हैं।

गौरतलब है कि, 19 साल की अंकिता भंडारी पौड़ी जिले के पट्टी नादलस्यूं में श्रीकोट गांव की रहने वाली थी, जो बीजेपी नेता और पूर्व राज्यमंत्री विनोद आर्य के बेटे पुलकित आर्य के वनंत्रा रिजॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट थी। अंकिता 19 सितंबर से लापता थी। उसके पिता ने 19 सितंबर को राजस्व पुलिस चौकी उदयपुर तल्ला में मुकदमा दर्ज कराया था। जिसके बाद मामला रेगुलर पुलिस को ट्रांसफर किया गया और बीजेपी नेता और पूर्व राज्य मंत्री के बेटे और रिजॉर्ट के मालिक पुलकित आर्य सहित 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। जिन्होंने सख्ती से पूछताछ में सारा राज खोला।

18 सितंबर की रात नहर में अंकिता को धक्का देकर हत्‍या कर दी गई थी, आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस शव की तलाश में जुटी थी। आज सुबह चीला पावर हाउस बैराज से एसडीआरएफ की टीम ने अंकिता का शव बरामद किया है। शव करीब एक सप्ताह पुराना बताया जा रहा है।

गुस्साए लोगों ने बीते कल आरोपित के रिसोर्ट में तोड़फोड़ की थी और पुलिस रिमांड में ही उनके कपड़े फाड़कर जमकर मारपीट भी की थी। वहीं अंकिता भंडारी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार बीजेपी नेता विनोद आर्य के बेटे पुलकित आर्य के रिजॉर्ट पर बुलडोजर चल गया है। उत्तराखंड में पहली बार सीएम के आदेश पर किसी आरोपी के संपत्ति पर बुलडोजर चला है। पुलिस की टीम पुलकित आर्य के वनंत्रा रिजॉर्ट को गिराने के लिए रात में ही बुलडोजर लेकर पहुंची।आधी रात को ही पुलिस टीम ने आरोपित के रिजॉर्ट को ध्वस्त करवाना शुरू किया। एसडीएम प्रमोद कुमार ने बताया कि रिजॉर्ट को जेसीबी से तोड़ दिया गया है।

अंकिता की हत्या की बात सामने आने के बाद स्थानीय लोगों ने रिजॉर्ट के अवैध निर्माण की शिकायत भी की थी। साथ ही लोग रिजॉर्ट के ध्वस्तीकरण की मांग पर अड़े थे। लोगों ने कहा कि, वह राज्यमंत्री का बेटा होने के चलते दबंगई दिखाता था। स्थानीय लोगों का कहना है कि रिजॉर्ट अनैतिक कार्य का अड्डा था। वनंत्रा रिजॉर्ट का संचालक पुलकित आर्य ने अंकिता भंडारी को ग्राहक के साथ गलत काम करने का दबाव बनाया था। उसने स्वयं यह बात कबूल की है। लेकिन जब अंकिता ने अनैतिक काम करने से इंकार कर दिया तो उसकी हत्या करी दी गई।

By Skgnews