पौड़ी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तराखंड दौरे पर हैं. इस दौरान वह मंगलवार को करीब पांच वर्ष बाद पौड़ी के यमकेश्वर ब्लॉक स्थित अपने पैतृक गांव पंचूर पहुंचे. अपने घर में रात्रि विश्राम के बाद बुधवार की सुबह योगी आदित्यनाथ ने अपने स्वजन के साथ गांव का भ्रमण किया. उन्होंने ग्रामीणों से मुलाकात कर उनकी कुशलक्षेम पूछी. गांव में भ्रमण के दौरान कई बच्चे उनके साथ फोटो खिंचवाने की जिद करते रहे. योगी ने किसी को निराश नहीं किया और सहर्ष उनसे मुलाकात करते हुए फोटो भी खिंचवाई. गांव की गलियों में घूमते हुए योगी आदित्यनाथ अपने बचपन के दिनों में खो गए.

 

भ्रमण के बाद योगी आदित्यनाथ अपने छोटे भाई महेंद्र सिंह बिष्ट के बेटे अनंत के चूड़ा कर्म संस्कार में शामिल हुए. योगी आदित्यनाथ संन्यास के बाद पहली बार घर के किसी कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं. इस अवसर पर लोक नृत्य भी किया गया.

बता दें कि, देश के सबसे बड़े सूबे के मुख्यमंत्री दो दिनों तक अपने पैतृक आवास में ही रुके. जिस जगह पर उनका जन्म हुआ, उसी कमरे में योगी आदित्यनाथ का आसन और बिस्तर लगाया गया है. योगी ने तमाम सुरक्षाकर्मियों को पारिवारिक कार्यक्रम में किसी के हस्तक्षेप से साफ मना कर दिया है. खास बात ये है कि आसपास के गांव के उनके मित्र बंधु और उनके परिवार के लोग बेरोकटोक योगी आदित्यनाथ से मिल रहे हैं. वहीं, देशभर की मीडिया पौड़ी के छोटे से गांव के उस छोटे से मकान को कवर करने के लिए पहुंची हुई है.

वहीं योगी की बहन शशि पयाल भाई के अपने पैतृक घर पहुंचने पर उत्साहित हैं. कहा कि, योगीजी यूपी में मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी बहुत मन से निभा रहे हैं. वो अपने सुख-दुख से ज्यादा यूपी के लोगों की चिंता करते हैं. शशि अपने भाई योगी आदित्यनाथ को देश के प्रधानमंत्री बनते देखना चाहती हैं. उनका कहना है कि मोदी जी जब अपना कार्यकाल पूरा करेंगे तो जिम्मेदारी योगी को सौंप देंगे.

By Skgnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.