नैनीताल: उत्तराखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष व हरिद्वार शहर विधायक मदन कौशिक की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है। हाईकोर्ट ने हरिद्वार में पुस्तकालय घोटाला मामले में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई की। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय कुमार मिश्रा व न्यायमूर्ति आरसी खुल्बे की खंडपीठ ने याचिका में पक्षकार मदन कौशिक को नोटिस जारी कर चार सप्ताह के भीतर जवाब पेश करने को कहा है। सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता द्वारा कहा गया कि अभी तक पुस्तकालयों का संचालन नहीं हुआ है। जबकि, सरकार की तरफ से कहा गया कि पुस्तकालयों का संचालन 2019 में हो गया था।

हरिद्वार लाइब्रेरी घोटाला उत्तराखंड के चर्चित घोटालों में से है। नैनीताल हाई कोर्ट में देहरादून निवासी सच्चिदानंद डबराल ने की जनहित याचिका दायर कर कहा है कि 2010 में तत्कालीन विधायक मदन कौशिक की विधायक निधि से करीब डेढ़ करोड़ की लागत से 16 पुस्तकालय बनाने के लिए धनराशि आवंटित की गई। पुस्तकालय बनाने के लिए भूमि पूजन से लेकर उद्घाटन तक की फाइनल पेमेंट कर दी गई। लेकिन आज तक धरातल पर किसी भी पुस्तकालय का निर्माण नहीं किया गया। इससे स्पष्ट होता है कि विधायक निधि के नाम पर विधायक ने तत्कालीन जिला अधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी समेत ग्रामीण निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता के साथ मिलकर बड़ा घोटाला किया है।

याचिकाकर्ता के अनुसार पुस्तकालय निर्माण का जिम्मा ग्रामीण अभियंत्रण सर्विसेस को दिया गया और विभाग के अधिशासी अभियंता के फाइनल निरीक्षण और सीडीओ की संस्तुति के बाद काम की फाइनल पेमेंट की गई। जिससे स्पष्ट होता है कि अधिकारियों की मिलीभगत से बड़ा घोटाला हुआ है लिहाजा पुस्तकालय के नाम पर हुए इस घोटाले की सीबीआई जांच करवाई जाए। अगली सुनवाई के लिए चार सप्ताह के बाद कि तिथि नियत की गई है।

The post उत्तराखंड: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की बढ़ी मुश्किलें, इस बड़े मामले में हाईकोर्ट ने मांगा जवाब appeared first on Bharatjan Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar.

By Skgnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.