देहरादून: उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UKSSSC) द्वारा आयोजित स्नातक स्तर की भर्ती परीक्षा में धांधली का खुलासा होने के बाद अब आयोग की अन्य परीक्षाएं भी संदेह के घेरे में हैं। क्योंकि जो गिरोह पकड़े गए हैं, उसके सभी सदस्य वर्ष 2015 से आपस में मिलते रहे हैं। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि गिरोह ने कहीं अन्य परीक्षाओं में भी गड़बड़ी तो नहीं की है।

वहीं पूर्व की परीक्षाओं की जांच को लेकर डीआईजी सेंथिल अबुदई ने कहा कि, अभी प्रारंभिक स्तर पर ही जांच है, यदि पूर्व की परीक्षाओं में भी संलिप्तता पाई गई तो इसकी भी जांच की जाएगी। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि, फिलहाल अपराधियों से पूछताछ जारी है। साथ ही मामले की विस्तृत जांच की जा रही है।

जानकार इस पूरे प्रकरण में मात्र गैर सरकारी अदने से कर्मचारियों की संलिप्तता पर संदेह कर रहे हैं। अंदेशा यह भी जताया जा रहा है कि जयजीत की पहुंच प्रश्न पत्रों तक नहीं थी, लेकिन बीते कई साल से आयोग में आने जाने से उसकी जान पहचान तकरीबन सभी से थी। ऐसे में जानकार जयजीत को सिर्फ मध्यस्थ के तौर पर देख रहे हैं। इस बड़े कांड का मास्टरमाइंड कोई और हो सकता है।

By Skgnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.