हरिद्वार: देवभूमि उत्तराखंड में 6 साल की मासूम लड़की और उसकी मां के साथ गैंगरेप की घटना का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। एक आरोपी ने पहले महिला के साथ खेत में दुष्कर्म किया। उसके बाद कार सवारों ने मां और बच्ची दोनों को अपने साथ ले जाकर दुष्कर्म किया। बच्ची की हालत बिगड़ने वह उन्हें वहीं छोड़कर फरार हो गए थे। अब गिरफ्तारी के बाद अभी बीवी-बच्चों वाले अभियुक्तों का कहना है कि, नशे में होने के कारण उनसे गलती हो गई।

गौर हो कि, जनपद हरिद्वार के देहात क्षेत्र (कलियर,रुड़की) में अभी कुछ ही दिन पूर्व (24 जून) मन को झकझोर कर रख देने वाली एक घटना घटी। जिसमें चलती कार में मां और छोटी बच्ची के साथ दुराचार की निंदनीय व घृणित घटना घटी। इस घटना में बच्ची की चीख ने न सिर्फ जनपद हरिद्वार बल्कि पूरे राज्य के साथ-साथ राष्ट्रीय महिला आयोग को भी हिला कर रख दिया। दिल्ली से राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम ने भी मौके पर आकर पीड़िता एवं आसपास से मामले की जानकारी करी।

मामले की गंभीरता और नाबालिकों के साथ किसी भी प्रकार की अनहोनी पर पूर्व से ही बेहद संजीदा DIG/SSP हरिद्वार डॉ0 योगेंद्र सिंह रावत द्वारा मौका मुआयना के साथ SP (R) प्रमेंद्र डोबाल, CO मंगलौर पंकज गैरोला व CO रुड़की विवेक कुमार के साथ गहनता से विचार-विमर्श कर चुनिंदा पुलिस ऑफिसरों के नेतृत्व में पुलिस टीमों का गठन किया। सभी को अलग-अलग टास्क देते हुए कमान स्वयं के हाथों में रखी।

पुलिस में बताया कि, अनगिनत CCTV फुटेज व मुखबिरों से लगातार संपर्क कर पुलिस टीम ने नामजद आरोपी महक सिंह उर्फ सोनू को घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल सहित दबोचने में सफलता भी हासिल की, लेकिन उसके बाद भी केस ब्लाइंड ही नजर आ रहा था। क्योंकि गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ के बाद भी कार सवार अभियुक्तों के बारे में कहीं से भी कोई जानकारी नहीं मिल पा रही थी। सिर्फ इतनी ही जानकारी मिली कि, “सफेद रंग की अल्टो कार जिसके बोनट पर किसी संगठन का झंडा लगा था। उसमें 4 व्यक्ति सवार थे, जिन्होंने आते ही महिला एवं छोटी बच्ची को जबरदस्ती अपनी कार में बैठाकर कहीं ले गए”

पुलिस के लगातार प्रयासों के बाद भी कोई सफलता न मिलने पर घड़ी का प्रति अगला घंटा पुलिस के सामने एक नई चुनौती था, लेकिन जनपद के पुलिस कप्तान की अगुवाई में सभी टीमें दिन-रात बिना थके/रुके/सोए अपने काम में लगी रहीं। भारी दबाव में काम कर रही पुलिस टीमों ने हर छोटी-बड़ी सूचनाओं का संग्रह/आदान-प्रदान और प्रिय हरिद्वार वासियों के हरिद्वार पुलिस पर विश्वास, समर्थन व दुआओं से हरिद्वार पुलिस ने मैन्युअल और सूचना प्रौद्योगिकी के कमाल कॉन्बिनेशन से घटना में शामिल इन आरोपियों को कार सहित पकड़ने में सफलता हासिल की:

  1. राजीव उर्फ विक्की तोमर पुत्र ब्रहमपाल निवासी ग्राम बेलडा थाना भोपा जिला मुज्जफरनगर उ0प्र0 उम्र 46 वर्ष।
  2. सुबोध पुत्र देवेन्द्र कुमार निवासी बेलडा थाना भोपा जिला मुज्जफरनगर उम्र 30 वर्ष।
  3. सोनू तेजियान पुत्र यशपाल सिंह निवासी साल्हापुर थाना देवबन्द जिला सहारनपुर उम्र 32 वर्ष।
  4. जगदीश पुत्र स्व० फूल सिंह निवासी साल्हापुर थाना देवबन्द जिला सहारनपुर उम्र 34 वर्ष।

(पांचवा अभियुक्त महक सिंह उर्फ सोनू)

जनपद पुलिस मुखिया द्वारा खुलासे में लगी पुलिस टीमों को भरी सभा में शाबाशी देते हुए SP(R) प्रमेंद्र डोबाल, CO मंगलौर पंकज गैरोला, CO रुड़की विवेक कुमार, SHO रुड़की देवेंद्र सिंह चौहान, SO बहादराबाद नितेश शर्मा, SO झबरेड़ा संजीव थपलियाल, SO कलियर मनोहर कंडारी, CIU प्रभारी रूडकी जहांगीर अलि, SI संजय नेगी (चौकी प्रभारी सोत-बी) इनमें प्रत्येक का नाम लेते हुए सराहना की और खुलासे में लगे अन्य सभी कर्मियों को बधाई देते हुए ₹ 25,000 नगद ईनाम देने की घोषणा की।

गढ़वाल परिक्षेत्र (रेंज) स्तर से भी हरिद्वार पुलिस की इस शानदार उपलब्धि पर पुलिस टीम को ₹ 50,000 का नगद इनाम देने की घोषणा की गई है।

वहीं घटना के बारे में पूछने पर बीवी-बच्चों वाले अभियुक्तों का सिर्फ इतना कहना है कि, “नशे में होने के कारण हमसे गलती हो गई” नाकाफी लगता है। नशे में अगर व्यक्ति इतना अंधा हो जाए तो ऐसा नशा, इंसान के इंसान होने पर प्रश्नचिन्ह तो लगाता ही है।

By Skgnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.