*** उत्तराखंड विकास पार्टी ने गैरसैण को राजधानी बनाने के लिए चलाया अभियान, #उत्तराखंड_की_राजधानी_गैरसैण *** *** उत्तराखंड की राजधानी बने गैरसैण - उत्तराखंड विकास पार्टी *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

तीन सूत्रीय मांगों को लेकर राज्य आंदोलनकारी करेंगे सरकार के विरोध में प्रदर्शन

29-10-2020 23:31:46 By: एडमिन

थराली (चमोली)। उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारियों की तीन सूत्रीय मांगों को लेकर उत्तराखंड राज्य के सभी जिलों के एवं दिल्ली प्रदेश के राज्य आंदोलनकारी शनिवार 30 अक्टूबर को राजधानी देहरादून के गांधी पार्क में धरना प्रदर्शन करेंगे। जिसके लिए राज्य के सभी 13 जिलों के साथ ही दिल्ली प्रदेश के राज्य आंदोलनकारी राजधानी में जमा होने शुरू हो गऐ हैं।

चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति के केंद्रीय अध्यक्ष भुपेंद्र सिंह रावत ने बताया कि पूर्व प्रस्तावित कार्यक्रम के तहत 30 अक्टूबर को समिति तीन सूत्रीय मांग जिसमें राज्य के चिन्हित आंदोलनकारियों को स्वतंत्रता सेनानी का दर्जा दिए जाने, राज्य आंदोलनकारी एक्ट लागू किए जाने व 31 अप्रैल 2017 तक विभिन्न कारणों चिन्हित होने से वंचित रहने वाले आंदोलनकारियों का चिन्हिकरण किए जाने की मांग शामि हैं।

बताया कि 30 अक्टूबर को आयोजित रैली के माध्यम से सरकार को चेताना हैं। यदि नौ नवम्बर तक मांगे पूरी न होने पर राज्यव्यापी आंदोलन छेड़ दिया जाएगा। केंद्रीय अध्यक्ष ने बताया कि देहरादून में आयोजित होने वाले आंदोलन में सभी जिलों के संयोजक मंडल के पदाधिकारियों, महिला संगठनों, छात्र संगठनों के अलावा दिल्ली प्रदेश के राज्य आंदोलनकारी ईकाई के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता भाग लेंगे।