*** उत्तराखंड विकास पार्टी ने गैरसैण को राजधानी बनाने के लिए चलाया अभियान, #उत्तराखंड_की_राजधानी_गैरसैण *** *** उत्तराखंड की राजधानी बने गैरसैण - उत्तराखंड विकास पार्टी *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

वाहन चालक ही नहीं राहगीर भी सड़क पर बने गढ्ढों से परेशान

09-07-2020 19:08:00 By: एडमिन

पोखरी (चमोली)। चमोली जिले के पोखरी विकास खंड की पोखरी-रूद्रप्रयाग मोटर मार्ग पर विनायकधार से लेकर टावर कालोनी तक सड़क पर बने गढ्ढों के कारण वाहन चालकों को ही नहीं बल्कि राहगीरों को भी आवाजाही में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों ने इस संबंध में गुरूवार को लोक निर्माण विभाग पोखरी के अधिशासी अभियंता को ज्ञापन सौंप कर सड़क के सुधारीकरण की मांग की है।

 

स्थानीय निवासी कुवर सिह नेगी, जीत सिह रौथाड, गिरीश किमोठी, अनीता देवी, सुनीता देवी का कहना है कि लोनिवि की लापरवाही के कारण पोखरी-रुद्रप्रयाग मोटर मार्ग पर विनायकधार से टावर कालोनी तक सडक की हालत जीर्ण शीर्ण बनी हुई है पूरी सडक पर जगह-जगह पर गढ्ढे बने हुए। पानी की निकासी के लिए नाली न होने के कारण वर्षात का पानी सीधे लोगों के घरों में घूस रहा है। सड़क पर बने गढ्ढों के कारण लोगों को यहां से आवाजाही करने में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कहा कि इस मार्ग पर कभी भी कोई बड़ी घटना घट सकती है लेकिन विभाग का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। कहा कि यदि शीघ्र ही सड़क की हालत में सुधार नहीं किया जाता है ंतो लोगों को आंदोलन के लिए विवश होना पड़ेगा।