*** उत्तराखंड विकास पार्टी ने गैरसैण को राजधानी बनाने के लिए चलाया अभियान, #उत्तराखंड_की_राजधानी_गैरसैण *** *** उत्तराखंड की राजधानी बने गैरसैण - उत्तराखंड विकास पार्टी *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

पलायन रोकने के लिए पूर्वांचल राज्य बनाना जरूरी - अनूप पांडेय

11-07-2020 18:25:26 By: एडमिन

नई दिल्ली : पूर्वांचल पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष अनूप पांडेय ने कहा है कि पूर्वांचल से लोगों को पलायन रोकने के लिए पूर्वांचल राज्य बनाना जरूरी है। जब तक पूर्वांचल राज्य का निर्माण नहीं होगा तब तक इस क्षेत्र के विकास की कल्पना करना अनुचित है। पूर्वांचल राज्य बनने से ही इस क्षेत्र का न सिर्फ समुचित विकास होगा बल्कि भुखमरी, पलायन और स्वास्थ्य सेवाओं आदि से निजात मिल सकेगा। पांडेय ने कहा कि इस संबंध में जल्द ही कोई कदम नहीं उठाया गया तो पूर्वांचल पीपुल्स पार्टी के नेतृत्व में हस्ताक्षर अभियान चलाया जाएगा। बाद में पूर्वांचल राज्य की मांग के साथ ही हस्ताक्षर को एक ज्ञापन के रूप में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को सौंपा जाएगा।

अनूप पांडेय ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हमेशा से ही प्रदेश के पूर्वी इलाको को पूर्वांचल राज्य बनाने की आवाज उठाते रहे हैं, लेकिन जब से राज्य के मुखिया बने हैं तबसे एक बार भी पूर्वांचल राज्य की वकालत नहीं की है। हालांकि मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने पूर्वांचल विकास बोर्ड का गठन कर पूर्वांचल के लोगों को लॉलीपॉप दिखाया था, लेकिन अभी भी उस विकास बोर्ड का क्या हुआ कुछ पता नहीं है। ऐसे में यह क्षेत्र उत्तर प्रदेश एक पिछड़ा इलाका बनकर रह गया है जहां लोग बाढ़ और सूखा दोनों से परेशान हैं। स्वास्थ्य सेवाओं जैसी बुनियादी समस्याओं का भी पूर्वांचल में खस्ताहाल है।

देश में लाकडाउन के दरम्यान यह देखा गया कि सबसे ज्यादा लोग पलायन कर दूसरे राज्यों में सिर्फ दो वक्त की रोटी कमाने के लिए गए थे क्योंकि यहां पर दो वक्त की रोटी कमाने के रोजगार-धंधे नहीं। उन्होंने बताया कि पूर्वांचल राज्य के निर्माण का आंदोलन विगत कई वर्षों से चल रहा है और सरकार का बार-बार ध्यान इस पर आकृष्ट कराया जाता रहा है, बावजूद इसके यह पता नहीं चल पा रहा है कि सरकार की कौन सी ऐसी मजबूरी है कि देखते ही देखते देश में कई राज्यों का निर्माण हुआ लेकिन पूर्वांचल राज्य के निर्माण को चुप्पी साध ली जा रही है। जब चुनाव आते हैं तो हर पार्टी के लोग भाषणों में बड़े-बड़े वादे कर इस इलाके से निकल जाते है। बाद में कोई भी पूछने वाला भी नहीं रहता है।