*** उत्तराखंड विकास पार्टी ने गैरसैण को राजधानी बनाने के लिए चलाया अभियान, #उत्तराखंड_की_राजधानी_गैरसैण *** *** उत्तराखंड की राजधानी बने गैरसैण - उत्तराखंड विकास पार्टी *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400, ऑफिस 01332224100 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ पर आप अपने लेख, कविताएँ भेज सकते है सम्पर्क करें 9410553400 हमारी ईमेल है liveskgnews@gmail.com *** *** सेमन्या कण्वघाटी समाचार पत्र, www.liveskgnews.com वेब न्यूज़ पोर्टल व liveskgnews मोबाइल एप्प को उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान, दिल्ली सहित पुरे भारत में जिला प्रतिनिधियों, ब्यूरो चीफ व विज्ञापन प्रतिनिधियों की आवश्यकता है. सम्पर्क 9410553400 *** *** सभी प्रकाशित समाचारों एवं लेखो के लिए सम्पादक की सहमती जरुरी नही है, किसी भी वाद विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र हरिद्वार न्यायालय में ही मान्य होगा . *** *** लाइव एसकेजी न्यूज़ के मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर से सर्च करे liveskgnews ***

भरारीसैंण में विदेशी पशु प्रजनन केंद्र से ग्रीष्मकालीन राजधानी तक

10-06-2020 17:52:27 By: एडमिन

-स्व. शिवानंद नौटियाल की पहल पर स्थापित हुआ था विदेशी पशु प्रजनन केंद्र

 

कर्णप्रयाग (चमोली)। चमोली जिले के गैरसैंण और आदिबदरी तहसील का मध्य क्षेत्र भरारीसैंण अब प्रदेश की ग्रीष्मकालीन राजधानी के नाम से जाना जा रहा है। लेकिन क्षेत्र की ईष्ट देवी मां भराड़ी के इस क्षेत्र में करीब साढ़े चार दशक पूर्व विदेशी पशु प्रजनन केंद्र स्थापना हुई। जिसके बाद इस देवी भराड़ी के क्षेत्र ने विधानसभा भवन, अफसर और एमएलए हॉस्टिल सहित समर कैपिटल तक का सफर तय कर लिया है। हालांकि उत्तराखंड की राज्य आंदोलनकारी ताकतें समर नहीं बल्कि स्थायी राजधानी की मांग कर रहे हैं।

 

सत्तर के दशक में कर्णप्रयाग विधानसभा के विधायक रहे स्व. डा. शिवानंद नौटियाल के करीबी रहे भुवन नौटियाल बताते हैं कि भ्रमण के दौरान भराऱीसैंण का क्षेत्र पर्यटन और पशुपालन की दृष्टि से महत्वपूर्ण देखते हुए यहां वर्ष 1974 में विदेशी पशु प्रजनन केंद्र की स्थापना की गई है। जिसका उद्देश्य था कि बेहतर और विदेशी प्रजाति के बछड़े पैदा कर ग्रामीण क्षेत्रों की पशुपालन की नश्ल सुधारी जा सके और लोग पशुपालन के क्षेत्र में आर्थिक संपन्न हो सकें। लेकिन सरकारों की उदासीनता और अव्यवस्थाओं के चलते विदेशी पशु प्रजनन केंद्र अपने उद्देश्य से भटक गया। हालात यह रहे कि अब पशु प्रजनन केंद्र केवल दूध की सप्लाई तक सिमट गया। लेकिन वर्ष 2012 में तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने गैरसैंण की ओर चल पड़ी जो अब भाजपा के नेतृत्व में समर कैपिटल तक पहुंच गई है।

 

दो राजधानियां प्रदेश के हित में नहीं

राज्य आंदोलनकारी इंद्रेश मैखुरी ने कहा कि दो राजधानियां प्रदेश के हित में नहीं है। कहा कि दो राजधानियों की नीति अंग्रेजों की थी। लेकिन 13 जिलों की इस छोटे से प्रदेश में जहां बेरोजगार, महंगाई, गरीबी, शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क और पेयजल जैसी समस्याएं हों वहां दो राजधानी केवल धन की बर्बादी है। इंद्रेश मैखुरी के साथ ही यूकेडी के अर्जुन सिंह रावत ने भी गैरसैंण को स्थायी राजधानी घोषित करने की मांग की है।